Big breaking: निरंकारी बाबा हरदेव सिंह की संदिग्ध मृत्यु की जांच प्रक्रिया शुरू, अब खुलेंगे सारे राज, निरंकारी मण्डल का होगा पर्दाफाश

-बी0 एस0 आज़ाद

निरंकारी बाबा हरदेव सिंह और उनके दामाद अवनीत सेतिया की संदिग्ध मृत्यु की सरकार द्वारा जांच शुरू कर दी गयी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अनुयायियों द्वारा सरकार को भेजे गए शिकायती पत्रों का संज्ञान लेते हुए उन पर कार्यवाही आरंभ कर दी गयी है। जिसके तहत कई शिकायतकर्ताओं से उनकी शिकायत के सम्बन्ध में उनके बयान दर्ज किए और साक्ष्य भी इकट्ठे किये गए हैं।
आपको बता दें कि निरंकारी बाबा हरदेव सिंह की उनके दामाद के साथ 2016 में कनाडा में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गयी थी। जिस पर उनकी मृत्यु के समय से ही निरंकारी अनुयायियों के एक बड़े वर्ग द्वारा उन दोनों की दुर्घटना पर सन्देह प्रकट करता रहा है। इसके लिए निरंकारी मण्डल से भी बड़ी संख्या में इस पर जवाब मांगे गए परन्तु मण्डल की ओर से सभी को नजरअंदाज करते हुए तथ्यों को छुपाने का प्रयास करता रहा। जिस कारण संदेहों को और बल मिलता गया।
इस दौरान निरंकारी मण्डल के प्रधान रहे दिवंगत सत्यार्थी जी ने अपने अंतिम समय में सच्चाई जाहिर करते हुए नए सतगुरु बनाने का पत्ता चलाने की बात करते हुए कई खुलासे कर दिए, जिनसे निरंकारी जगत में खलबली मच गई। इसी के साथ अवनीत सेतिया की माता कमला सेतिया और बाबाजी की पर्सनल सेक्रेटरी रही कविता बेकल और गुरु परिवार के नजदीकी रहे रिंकू सेठ की भी ऑडियो वायरल हुए। जिनसे निरंकारी मण्डल के भीतर कई तरह की साजिशों की बू आती चली गयी। आखिर गुरु परिवार के नजदीकी लोगों की ऑडियो वायरल हुई।
हद तो तब हो गयी जब 70वें निरंकारी वार्षिक सन्त समागम के दूसरे दिन भरे समागम में एक डॉक्यूमेंट्री दिखाई गई जिसमें बाबा हरदेव सिंह के पूर्व के प्रवचनों को एडिट करके भरे समागम में दिखाकर अनुयायियों की आस्था पर जबरदस्त प्रहार किया। इससे आहत हो कर दिल्ली के अनुराग तन्हा ने तत्कालीन सतगुरु और निरंकारी मण्डल पर मुकदमा दर्ज करवा दिया।
यहाँ यह भी गौरतलब है कि मुम्बई निवासी एक पत्रकार शोभित त्रिपाठी ने जब बाबाजी की मृत्यु पर सवाल उठाते हुए अपने चैनल पर वीडियो डाली तो उस पर भी मण्डल की ओर से कई मुकदमें और अनर्गल दवाब बनाया गया।
लेकिन शोभित की वीडियो से निरंकारी जगत में बड़ी तेजी से जागरूकता फैली। इसका नतीजा ये हुआ कि बड़ी संख्या में लोगो ने सरकार को दखल देने की मांग को लेकर बड़ी संख्या में शिकायते की थी।
उधर सोशल मीडिया पर भी पिछले कुछ महीनों से बाबाजी की मृत्यु की जांच और मण्डल में व्याप्त भृष्टाचार की मांग को लेकर जनांदोलन की मांग उठ खड़ी हुई। जिसमे देश के हजारों लोगों का जुड़ाव भी हो गया था।
सूत्रों के मुताबिक इन सारी परिस्थितियों को देखते हुए निरंकारी बाबा और उनके दामाद की मृत्यु की जांच सहित मण्डल के भृष्टाचार की जांच की प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है।
मुम्बई निवासी शोभित त्रिपाठी ने फ़ोन पर बताया कि बुधवार को पीएमओ से उनकी शिकायत पर उनके बयान दर्ज करवाये गए हैं। साथ ही शिकायत के आधार पर सबूत भी सौंप दिए हैं।
इसके अलावा और भी उन कई लोगों के बयान दर्ज करवाये गए है जिन्होंने सरकार को शिकायत दर्ज करवाई थी।
उधर जैसे ही निरंकारी बाबा जी की मौत की जांच प्रक्रिया शुरू होने भनक निरंकारी अनुयायी को लगी तो उनमें खुशी की एक लहर दौड़ गई, और उनकी आंखों में सच्चाई की चमक दिखाई देने लगी।

Share This On
loading...

5 COMMENTS

  1. सच्चाइ को बाहर लाकर के दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही की जाँय ।

  2. सच्चाई बाहर आना बहुत ज़रूरी है मगर ये बात बाक़ी कोई न्यूज़ च्यानल पर क्यू नहीं दीखा रहे. बहुत देर हो गयी है पहले से ही और तब तब तक ये पाप करनेवाले भाग गये होंगे.आगर सच में ईन्क्वायरी हो रही है तो बहुत अच्छी बात है. देर आये दूरूस्त आये मगर सरकार की तरफ़ से ऐसा कुछ नहीं बताया गया है ईसलीए संदेह लग रहा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here