16 C
Amroha, IN
Wednesday, March 20, 2019
 
Breaking News

अंधश्रद्धा और धार्मिक अंधविश्वास के बोलबाले के बीच भारत के लिए क्यों महत्वपूर्ण हैं...

स्टीफन हॉकिंग का हमारे बीच से जाना वैज्ञानिक चिंतन और तर्कशीलता के लिए एक बड़ा नुकसान है। दुनिया में बहुत कम ऐसे लोग होते...

देश और नागरिकता बचाना चाहते हो तो दो ढाई महीने टीवी देखना बन्द कर...

-रवीश कुमार अगर आप अपनी नागरिकता को बचाना चाहते हैं तो न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कर दें। अगर आप लोकतंत्र में एक ज़िम्मेदार नागरिक के...

आलेख- सांस्कृतिक संवेदनहीनता के समय में ‘लोक’

-प्रो. संजय द्विवेदी   जब समाज में गहरी सांस्कृतिक संवेदनहीनता जड़ें जमा चुकी हो और राजनीति अपने सर्वग्रासी चरित्र में सबसे हिंसक रूप से सामने हो,...

आलेख: क्या आपके बच्चे भी कार्टून देखते हैं?

चिंता नहीं चिंतन करिए ! ध्यान रखिये और बच्चों कि खुशहाली को बढ़ाएं ! -अमित सहगल- आप और हम टी वी क्यों देखते है? क्योंकि यह...

नववर्ष विशेष: ग्रीटिंग कार्ड हुए बीते जमाने की बात

"रिश्तों की विरासत" ■ डॉ महेंद्र सिंह (वरिष्ठ पत्रकार) एक जमाना था लोग हैप्पी न्यू ईयर के ग्रीटिंग कार्ड में अपना दिल निकाल कर रख देते...

71वां निरंकारी सन्त समागम: समय की मांग क्या है ?

-रामकुमार सेवक कल अर्थात (24 -11 -2018 ) को निरंकारी मिशन का 71 वां वार्षिक सन्त समागम समालखा (हरियाणा ) स्थित नए समागम मैदान में...

फुरकान की बदजुबानी: अपमान की कीमत पर राजनीति शुरू

सम्पादकीय- बी0एस0 आज़ाद बहुजन समाज पार्टी की अमरोहा ईकाई में भाईचारा विंग के जिला संयोजक कहे जाने वाले फुरकान के एक महिला जनप्रतिधि को परोक्ष...

आधार की व्यवस्था में जनता लाचार

-नवनीत कुमार गोला की कलम से- आज देश में सबसे बड़ा दर्द और परेशानी दे रहा है "आधार " आम आदमी का अधिकार , भ्रष्टाचार...

देवसत्ता को चुनौती देने वाले कृष्ण

वसुदेव-देवकी का जैविक पुत्र, तो नंदगोप-यशोदा का पालित चंचल पुत्र! ईष्वर भक्तों ने विश्णु के नौवें अवतार के रूप में कृश्ण को स्वीकारा, तो...

सम्पादकीय: ये कैसी आस्था??

-बी0 एस0 'आज़ाद' आज श्रावण मास का अन्तिम सोमवार। यूं तो पूरा श्रावण मास ही शिव भक्ति की मान्यता के लिए प्रचलित है। पूरे मास...

LATEST NEWS

Don`t copy text!